Tuesday, 12 July 2011

दूल्हा नहीं बनावत हमका

जबरे  बहुत  सतावत  हमका
उल्टा  रहे  सिखावत  हमका
माँ ! तुमसे डेर-वावत हमका--
इधर -उधर  दौरावत  हमका  ||
 

राज - पाट   से   होई  का ?
दूल्हा  नहीं  बनावत हमका |
एम पी  से  गए  भगाए  अपना 
यू पी  मा  भुगतावत हमका ||

2 comments:

  1. बढ़िया है. खासकर अंतिम पंक्ति.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छा लिखा है

    ReplyDelete