Friday, 22 July 2011

रेल - अधिकारी

 ड्राइवर  को  दोषी  बता,  बचा  रहे थे  जान,
जान  नहीं  पाए  उधर, जिन्दा   है   इंसान |

जिन्दा    है    इंसान,   थोपते   जिम्मेदारी,
आलोचक  की  देख,   बड़ी   भारी  मक्कारी |

कह रविकर समझाय, निकाले मीन-मेख सब-
मुंह  मोड़े  चुपचाप,  मिले  उनको  जिम्मा जब ||

4 comments:

  1. बिल्कुल सही कहा है आपने।

    ReplyDelete
  2. Very well said
    PM to bata doshi kholi hai usne pole sabki

    ReplyDelete
  3. बेहद सटीक शब्द भेदी बाण सत्ता के कानों पर जूँ रेंगे न रे .

    ReplyDelete
  4. http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    कृपया यहाँ भी पधारें ,टिपियाएँ और कृतार्थ करें .रेल अधिकारी फिर बांचा संवेदन हीनता का एक नया स्तर हाथ आया शासन की उनकी जिनकी चलती है .

    ReplyDelete